Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

सोमवार, 19 अप्रैल 2010

आज कल

वक़्त पे जो काम आ गया वो मित्र है,
वर्ना एल्बम में लगा बस एक चित्र है ।

पाप है जो दूसरों को कष्ट दे रहा
दे सके जो मुस्कुराहटें पवित्र है ।

छल कपट के बाग़ में दुर्गन्ध है भरी
मेहनतों के खेत का पसीना इत्र है ।

झूठ, पाप, छल कपट तो आम बात है
आजकल ईमान धर्म ही विचित्र है ।

1 टिप्पणी: