Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

बुधवार, 20 जून 2012

देखें किस करवट बैठता है ऊँट


विज्ञापन छपते हैं अख़बारों में
जरूरत है एक पति की
लेकिन  ऐसा विज्ञापन नहीं देखा था
कि जरूरत है एक देश को
एक राष्ट्रपति की

पति का चुनाव मुश्किल होता है
कन्या को चाहिए सुन्दर सुशील  प्यार करने वाला पति
पिता को चाहिये एक कमाऊ दामाद जो दहेज़ का भूखा न हो
माँ  को चाहिए  जो दिमाग से ठंडा हो
फिर भी मिल ही जाता है सबको पति

लेकिन राष्ट्रपति ?
कांग्रेस को चाहिए आज्ञाकारी -
देवी का पुजारी
तृणमूल को चाहिए - वो जो कांग्रेस न चाहे
समाजवादी को चाहिए - वो जिससे कांग्रेस उसको चाहे
मायावती के पास च्वायस नहीं है
करूणानिधि के पास वॉयस नहीं है
जयललिता और पटनायक को चाहिए एक आदिवासी 
नितीश कुमार की तों  चाल है सियासी
शरद पवार दूर की कौड़ी खेल रहें हैं
बी जे पी  वाले शिवसेना  को झेल रहें  हैं
 उधर जे  डी यु के शरद यादव ऐंठे  हैं
इधर रामजेठमलानी मुंह फुलाए बैठे हैं
कलाम साहब मौके की नजाकत को समझ चुके हैं
और अडवाणी  जी अब संगमा  की और झुके हैं
बहरहाल  ये मुद्दा जारी है
इसे दिन भर दिखाना मीडिया  की लाचारी है
प्रणव खुश हैं , ममता गयी है रूठ
देखें किस करवट बैठता  है  ऊँट
 

मंगलवार, 12 जून 2012

पेड़ की पीड़ा

 
हाँ मैं पेड़ हूँ
तुम्हारी ही तरह श्रष्टि का एक अंग
एक बात मेरा मन  कहता है  
न तुमने मुझे बनाया 
न मैंने तुम्हे 
मैं नहीं - त्रैतवाद ऐसा कहता है 
ईश्वर , जीव और प्रकृति 
तीन अलग अलग सत्ता 
जो विद्यमान थी श्रृष्टि से पहले 
जो विद्यमान होगी प्रलय के बाद भी !
 
फिर तुम - यानि जीव
क्यों करते हो इतना अत्याचार मुझ पर ?
मेरे फूल तुम्हारे लिए श्रृंगार  है
मेरे फल तुम्हारे आहार हैं 
मेरे पत्ते देते हैं आश्रय तुम्हे
और तुम ?
मारते हो पत्थर फलों के लिए
चलाते हो कुल्हाड़ी मेरे टुकड़ों के लिए
 
तुम्हारा जन्म होता है
तो कुल्हाड़ी चलती है मुझ पर
क्योंकि तुम्हे एक  पालना चाहिए
 
तुम्हारा विवाह हो
तो प्रहार करते हो मुझ पर
तुम्हे एक डोली  चाहिए
 
तुम्हे पढने के लिए मेज चाहिए
तुम्हे सोने के लिए सेज चाहिए
छत को थामने के लिए शहतीर चाहिए
लड़ने को धनुष और तीर चाहिए   
घर के द्वार पर दरवाजा चाहिए
दांतों के लिए दतुअन रोज ताजा चाहिए
 
बुढ़ापे में मेरे ही सहारे हो तुम
छड़ी के बिना बेसहारे हो तुम
और फिर मृत्यु तो तुम्हे आती है
लेकिन तुम्हारी चिता तुमसे पहले मुझे जलाती है
 
फिर भी मुझे कोई शिकायत नहीं तुमसे
हाँ एक छोटी सी विनती है तुमसे
मत काटो मेरे हरे भरे तन को
बेवजह मेरे बदन को 
मत उजाडो जंगल इस धरा के
जो श्रृंगार हैं वसुंधरा के 
इसमें भी तुम्हारा ही भला है
वर्ना आने वाला एक जलजला है
जो तुम्हारी संतति को खा जाएगा 
तुम्हारा लालच यही धरा रह जाएगा