Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

बुधवार, 30 मार्च 2011

आधा जीवन

काल समूचा दिवस रात्रि में बंट जाता है
सोचो आधा जीवन सोने में जाता है !

आधा जीवन गुजरा बचपन और बुढ़ापा
कर्म के लिए चौथाई जीवन आता है !

आधा जीवन आधे मन से अगर जिया तो
आधे का आधा जीवन ही रह जाता है !

जीवन में यदि मित्र बना पाए न कोई
मीत बिना जीवन फिर आधा हो जाता है !

दुनिया रखे - याद किया न कुछ भी ऐसा
क्या पूरा क्या आधा - बस आता जाता है !

1 टिप्पणी: