Gadget

यह सामग्री अभी तक एन्क्रिप्ट किए गए कनेक्शन पर उपलब्ध नहीं है.

बुधवार, 29 मई 2013

राजनीति और क्रिकेट

राजनीति और क्रिकेट
दोनों में कितनी समानताएं हैं
दोनों ही खेल हैं
जो खिलाडी खेलते हैं
और जनता देखती है

दोनों में ही भ्रष्टाचार है
भाई भतीजावाद ही नहीं
जमाइवाद भी है

दोनों में ही
भीड़ जुटना  लोकप्रियता का माप है
दोनों का ही आँखों देखा हाल -
साल भर प्रसारित होता है

दोनों में ही सिनिअर और जूनियर होते हैं
दोनों में ही विरोधी पक्ष अपील करता रहता है
दोनों ही देश के लिए समर्पित होते हैं
लेकिन मौका मिलते ही  देश को लूटते हैं
दोनों में ही चुनाव में घोटाला  है
दोनों में ही विदेशियों का बोलबाला है

दोनों में ही कई खिलाडी अन्दर हैं
दोनों में ही अध्यक्ष इस्तीफ़ा देने में विश्वास  नहीं करते
और दोनों के ही मुखिया
मिडिया के सामने मुह नहीं खोलते हैं

पता नहीं कि क्रिकेट में राजनीति है
या फिर राजनीति में क्रिकेट है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें