इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

सोमवार, 30 मार्च 2015

आम आदमी भी फिर आम हो गया


जब आम आदमी का बड़ा नाम हो गया
अब आम आदमी भी फिर आम हो गया

बातें बड़ी बड़ी जो करते थे जोर से
बातों के हल्केपन से बदनाम हो गया

भाईचारे के गाने जो गाते थे मंच पर
भाई बेचारे को  रो रो जुकाम  हो गया

जो लोकपाल के नारे से दिल्ली पर छा गए
उनका  ही लोकपाल अब गुमनाम हो गया

जो बात करते थे हमेशा प्रजातंत्र की
वो आज तानाशाह सरे आम हो गया

सत्ता का लोभ है नहीं, नारे लगाते  थे
सत्ता मिली तो बस बेलगाम हो गया




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें