इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

सोमवार, 16 नवंबर 2015

आइये चर्चा करेँ बिहार की

आइये चर्चा करेँ बिहार की
किस की जीत की
किस की हार की !

कुछ लोग प्यार करते हैं
अपनी बदनसीबी से
अपनी बदहाली से
अपनी गरीबी से
उस प्यार की ये  जीत
लेकिन हार बिहार की !

जाति के चुम्बक से
खींची आती जातियां
मुठ्ठियाँ भिंच जाती
फूल जाती छातियाँ
संकीर्णता की जीत
हार मुक्त विचार की !

इतिहास सामने था
पिछले छह दशक का
अपने ही देश में रहे
पिछड़े की कसक का
इतिहास की ही जीत
हार जीर्णोद्धार की !

देकर  जमानतें जो
जो छूट आये  जेल से
प्रतिबन्ध जिसपे था
की दूर रहे खेल से
अपराधियों की जीत
हार कर्णधार की !

लड़ते थे देके गालियां
प्यासे थे खून के
मिल कर हैं बैठे
वोट के प्यासे जूनून के
मौका-परस्तियों की जीत
हार तेज धार की !

है देश खा रहा तरस
तुझ पर यूँ ऐ बिहार
तूने चुनी है अपनी
बदनसीबी बार बार
टूटी हुयी  नौका की जीत
हार पतवार  की  !




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें