इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शनिवार, 2 नवंबर 2013

एक दिया उनको भी दो

( मेरे दादाजी स्वर्गीय लालमन जी की एक रचना )

जिनके घर उजियार घनेरा - एक दिया उनको भी दो
जिनके घर में अधिक अँधेरा - एक दिया उनको भी दो

होली दीवाली क्या जाने वो - अन्न न एक समय जिनको
एकादशी लगाती फेरा - एक दिया उनको भी दो

जिनके घर का आसमान छत - और धरती ही आँगन है
है केवल चंदा का उजेरा - एक दिया उनको भी दो

महलों की तो दूर जिन्हे - झोपड़ियों की भी आस नहीं
फुटपाथों पर जिनका डेरा - एक दिया उनको भी दो

कहे रात की क्या दिन में भी - भटक रहे अँधेरे में
मानो कहा आज तुम मेरा - एक दिया उनको भी दो

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें